Skip to main content

एक नवम्बर से नया सत्र, बदल जाएंगे कई इंतजाम

🔮एक नवम्बर से नया सत्र, बदल जाएंगे कई इंतजाम
  


*मोहनलाल सुखाडिय़ा विश्वविद्यालय : अभिभावक देंगे विद्यार्थी की पढ़ाई का फीडबैक, मेंटर बनाकर शिक्षकों पर कसी जाएगी लगाम*

उदयपुर. मोहनलाल सुखाडिय़ा विश्वविद्यालय का नया सत्र एक नवम्बर से शुरू होगा। इससे जुड़े चार संघटक कॉलेज, डेढ़ सौ से ज्यादा निजी और सरकारी महाविद्यालयों के करीब दो लाख विद्यार्थियों के लिए कई इंतजाम बदले से नजर आएंगे। अधिक सम्भावना यही है कि इस बार पढ़ाई ऑनलाइन ही चलेगी, जिसकी तैयारियां की गई हैं।

विवि सूत्रों ने बताया कि नए सत्र में पहली बार अभिभावक अपने बच्चों की शिक्षा और उसकी प्रगति को लेकर विश्वविद्यालय को फीडबैक देंगे, जिसे सम्बंधित शिक्षकों तक पहुंचाया जाएगा। अब पढ़ाई और अध्ययन की गुणवत्ता के स्तर पर ज्यादा जोर रहेगा। इसे लेकर शनिवार को विवि में विज्ञान संकाय के विद्यार्थियों के करीब 20 अभिभावकों के साथ कुलपति प्रो. अमेरिका सिंह ने बैठक भी की। संकाय की अभिभावक समिति का गठन भी इस मौके पर हुआ। कुलपति ने अभिभावकों से कहा कि आपका बच्चा क्या पढ़ रहा है, इसकी जानकारी आपको होनी चाहिए। संतुष्ट नहीं हैं, तो विवि को जरूर बताएं। कई पेरेंट्स अनभिज्ञ रहते हैं। अभिभावकों ने फीस, परीक्षा आयोजन व नतीजे घोषणा को लेकर भी विवि प्रशासन से सवाल-जवाब किए।

*- इस बार लागू होंगी ये नई व्यवस्थाएं*

*1. कैम्पस विजिट :* प्रथम वर्ष में दाखिल हरेक विद्यार्थी को पूरे परिसर की विजिट, डीएसडब्ल्यू, शिक्षकों से परिचय, परीक्षा विभाग, क्लासरूम, लाइब्रेरी, कम्प्यूटर सेक्शन और अन्य विभागों की विजिट करवाई जाएगी।

*2. मेंटर सिस्टम :* हरेक विभाग में टीचर-स्टूडेंट एसईओ पद्धति लागू की जाएगी। शिक्षकों को मेंटर बनाया जाएगा, जो तय अनुपात में विद्यार्थियों की हर गतिविधि को देखेंगे।

*3. क्रेडिट बेस्ट प्रागे्रस :* विद्यार्थी की प्रगति क्रेडिट बेस्ड होगा। कितनी ऑनलाइन कक्षा में हाजिरी लगी, कितने घण्टे पढ़ाई की, बीच में पढ़ाई छोड़ी दिया तो क्रेडिट के हिसाब से डिप्लोमा, डिग्री दी जाएगी। यह क्रमबद्ध ढंग से लागू होगा।

*4. नए कोर्स :* नई शिक्षा नीति को लागू किया जाएगा, जिसमें 180 कोर्स स्किल्ड और जॉब ओरिएण्टेड होंगे। वोकेशनल कोर्स पर भी फोकस होगा।

*5. एडवांस लेक्चर नोट :* पढ़ाई से एक दिन पहले शिक्षकों को लेक्चर नोट बना एक दिन पहले भेजना होगा। शिक्षकों को निर्धारित न्यूनतम कक्षाएं लेनी ही होंगी। हरेक को एक सेमेस्टर में पांच असाइनमेंट भी दिए जाएंगे।

*6. सरप्राइज टेस्ट :* सत्र में दो सरप्राइज टेस्ट होंगे, जो कक्षा में अचानक लिए जाएंगे। दो नियमित प्रोगे्रस टेस्ट होंगे। इनके अंक मार्कशीट में नम्बर जुड़ेंगे या नहीं, इसका निर्णय एकेडमिक काउंसिल में होगा।

*7. पास होने के तीन मौके :* इस बार मुख्य परीक्षा के बाद पूरक परीक्षा के बाद तीसरे स्पेशल टेस्ट में विद्यार्थी को पास होने का एक और मौका भी दिया जाएगा। प्रोमोशन में 10वीं-12वीं के औसत अंक भी जुड़ेंगे।
------

कुछ नए निर्णय लागू करने जा रहे हैं। बच्चे की उपस्थिति भी आउटकम एसेसमेंट बेस पर दर्ज होगी। 27 अक्टूबर तक परीक्षाएं खत्म होंगी, जिसके बाद एक नवम्बर से ऑफलाइन या ऑनलाइन की तैयारी हो चुकी है। सरकार की गाइडलाइन का इंतजार है। हर बच्चे के अभिभावक को उसकी गतिविधि से नियमित अवगत करवाएंगे।

प्रो. अमेरिका सिंह, कुलपति, मोहनलाल सुखाडिय़ा विश्वविद्यालय

*📔🏆 शिक्षा विभाग समाचार 🏆📔*
😊 Thanks for Visit.😊

Post a comment

0 Comments